ब्रेकिंग

ये कैसी धर्म विरोधी नीतियां जो हो रही है जनजागृत

ये कैसी धर्म विरोधी नीतियां जो हो रही है जनजागृत

By : Binod Jha
Dec 27, 2018
88

उत्तर प्रदेश में पहले जहां ईसाई समुदाय के ऊपर प्रार्थना सभा को रोका गया उसी तर्ज पर नमाज अदा पर भी रोक लगाईं गई उसके बाद अब ग्रेटर नोएडा में श्रीमद्भागवत कथा पर रोक। 
अभी नोएडा के पार्क में नमाज रोकने पर विवाद थमा भी नहीं था कि अब प्रशासन ने ग्रेटर नोएडा में चल रही श्रीमद्भागवत कथा को रुकवा दिया। प्रशासन का कहना है कि इसके लिए समुचित अनुमति नहीं ली गई थी। ग्रेटर नोएडा के सेक्टर 37 में एक भूखंड पर श्रीमद्भागवत कथा के लिए टेंट, दरी, लाउडस्पीकर आदि का इंतजाम किया गया था।

दोपहर में ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण के अधिकारी दस्ते के साथ पहुंचे और टेंट उखाड़ दिया। उन्होंने तर्क दिया कि इस धार्मिक आयोजन के लिए जरूरी परमीशन नहीं ली गई है। इस कार्रवाई से नाराज महिलाएं वहां धरने पर बैठ गईं। स्थानीय लोगों ने दावा किया कि इस जमीन को सभी लोग धार्मिक आयोजन के लिए चंदे से खरीद रहे हैं।

ये कैसी धर्म विरोधी नीतियां जो हो रही है जनजागृत

प्राधिकरण की तरफ से भी ये निश्चित कर दिया है कि ये जगह धार्मिक है। इसे खरीदने के लिए लोगों ने अब तक 25 लाख रुपए इकट्ठा कर लिया है। इसमें किसी ने 11 हजार, किसी ने 5 हजार तो किसी ने 1100 रुपए दिए हैं। इस जगह में पिछले नवदुर्गा में पंडाल लगाकर भागवत कथा का आयोजन कराया गया था। इस कथा के लिए पिछले 25 दिनों से प्रचार-प्रसार हो रहा था। कल शाम टेंट लगाया गया और आज सुबह 10 बजे यहां प्राधिकरण वालों ने आकर सबकुछ उखाड़ फेंक दिया।

प्राधिकरण के विशेष कार्याधिकारी सचिन सिंह ने समाचार एजेंसी भाषा को बताया कि उन्हें कार्यक्रम के लिए अनुमति नहीं दी गयी है। यदि वे इसे फिर भी करते हैं तो यह गैर कानूनी होगा। वहीं, स्थानीय पुलिस ने बताया कि प्राधिकरण द्वारा की गई इस कार्रवाई से उसका कोई लेना-देना नहीं है।

ये कैसी धर्म विरोधी नीतियां जो हो रही है जनजागृत

ग्रेटर नोएडा (प्रथम) के क्षेत्राधिकारी निशंक शर्मा ने बताया कि यह कार्रवाई प्राधिकरण अधिकारियों तथा प्राधिकरण से संबद्ध पुलिसकर्मियों ने की है। जिला पुलिस या स्थानीय कासना पुलिस थाने का कोई अधिकारी वहां नहीं था।
एक अधिकारी ने कहा कि सेक्टर का आरडब्ल्यूए इस कार्यक्रम के आयोजन में शामिल नहीं था तथा मुख्य आयोजक इस सेक्टर के बाहर का है। इस भूखंड से अतिक्रमण शाम 5 बजे तक खाली करा लिया गया और तब तक अधिकारी वहां खड़े रहे।



Tags:
leave a comment