ब्रेकिंग

चुस्त डॉक्टरों की सूझ-बुझ ने बचाई 7 वर्षीय बच्ची के आंखों की रोशनी

चुस्त डॉक्टरों की सूझ-बुझ ने बचाई 7 वर्षीय बच्ची के आंखों की रोशनी

By : Binod Jha
Sep 02, 2019
133

दुर्घटनावश ब्लेड से बाईं आंख कटी, लाल हुई आंखों से पानी बहने और बाईं आंख से न दिखने की शिकायत पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था मरीज फरीदाबाद, 31 अगस्त, 2019ः फोर्टिस एस्कॉर्ट्स फरीदाबाद के डॉक्टरों ने हाल ही में एक 7 वर्षीय बच्ची प्लाक्षी तायल के आंखों की रोशनी सफलतापूर्वक वापस ला दी है, जिसने दुर्घटनावश ब्लेड से अपनी बाईं आंख को चोटिल कर ली थी। यह दुर्घटना स्कूल में हुई थी जहां एक पेपर ब्लेड हाथ से फिसलने के कारण बच्ची की आंखों में चोट आ गई थी और आंखों की रोशनी पूरी तरह चली गई थी। उसे तत्काल ही फोर्टिस एस्कॉर्ट्स, फरीदाबाद ले जाया गया जहां डॉ. अरविंद कुमार, विभाग प्रमुख, ऑफ्थेमलॉजी विभाग,फोर्टिस एस्कॉर्ट्स फरीदाबाद और उनकी सर्जिकल टीम ने उपचार शुरू किया। इंटेंसिव केयर टीम,एनेस्थिसिया टीम और सर्जिकल टीम ने प्लाक्षी की खराब आंखों को ठीक करने के लिए सामूहिक प्रयास किए।

अस्पताल में लाए जाने पर ही यह तय कर लिया गया था कि सर्जरी की जरूरत है। उसकी आंखें लाल थीं और पानी आ रहा था। ब्लेड उसकी आंखों में चला गया था और उसकी बाएं कॉर्निया को नुकसान पहुंचा था। इस सर्जिकल प्रक्रिया में जनरल एनेसथिसिया के अंतर्गत गार्डेड विजुअल प्रॉगनॉसिस में हाइफेमाडंनेज  के साथ बाईं कॉर्निया में आई चोट को ठीक करना शामिल था। इस ऑपरेशन में डेढ़ घंटे लगेंगे
और यह सफल रहा। यह ऑपरेशन ऑपरेटिंग माइक्रोस्कोप के साथ जनरल एनेसथिसिया के अंतर्गत चोट लगने के बाद जल्दी से जल्दी करने की जरूरत थी। समय पर ऑपरेशन न होने पर मरीज के आंखों की रोशनी हमेशा के लिए जा सकती थी। मरीज को ऑपरेशन के अगले दिन रोशनी में अच्छे सुधार के साथ डिस्चार्ज कर दिया गया और इसमें कोई जटिलता नहीं थी। डॉ. अरविंद कुमार, वरिष्ठ सलाहकार, ऑफ्थेमलॉजी, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने कहा, “यह बहुत ही चुनौतीपूर्ण केस था। प्लाक्षी की आंखें ठीक होने के आसार बेहद कम थे।

चुस्त डॉक्टरों की सूझ-बुझ ने बचाई 7 वर्षीय बच्ची के आंखों की रोशनी

 हालांकि हम लगातार काम करते रहे, उसकी चोट खाई आंखों को ठीक करने के लिए ऑफ्थेमलॉजी की एनेसथेटिक टीम और सर्जिकल विभाग ने मिलकर काम किया। सर्जरी के लिहाज से यह मुश्किल और चुनौतीपूर्ण केस था। टीमवर्क और समय से किए गए उपचार से हमें सफल सर्जरी करने में मदद मिली। इंटेंसिव केयर टीम
द्वारा किए गए तात्कालिक प्रयासों के बाद सर्जिकल टीम की ओर से किए गए विशेषज्ञ प्रयासों ने सफलता सुनिश्चित करने के लिए प्रयास किए।”श्री मोहित सिंह, फेसिलिटी निदेशक, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने कहा, “ऐसे मामले हमेशा ही मुश्किल होते हैं। हालांकि अगर तबीयत ठीक होने के 0.1 फीसदी संभावना होने पर भी हम वह सबकुछ करते हैं जो कर सकते हैं। इस मामले में विभिन्न विशेषज्ञताओं वालों डॉक्टरों की कई टीमों ने अपनी ऊर्जा और प्रयासों को प्लाक्षी की मदद करने के लिए केंद्रित कर लिया। कुछ समय के लिए यह अनिश्चितता
की स्थिति थी लेकिन वह इससे उबरने में सफल रहीं।

चुस्त डॉक्टरों की सूझ-बुझ ने बचाई 7 वर्षीय बच्ची के आंखों की रोशनी

 अब वह अपने परिवार के साथ लगभग पूरी तरह ठीक हैं।”फोर्टिस हैल्थकेयर लिमिटेड के बारे में फोर्टिस हैल्थकेयर लिमिटेड भारत में अग्रणी एकीकृत स्वास्थ्य सेवा प्रदाता है। कंपनी की स्वास्थ्य सेवाओं में अस्पतालों के अलावा डायग्नाॅस्टिक एवं डे केयर स्पेष्यलिटी सेवाएं षामिल हैं। फिलहाल कंपनी भारत समेत दुबई, माॅरीषस और श्रीलंका में 45 हैल्थकेयर सुविधाओं समेत 1⁄4इनमें वे परियोजनाएं भी षामिल हैं जिन पर फिलहाल काम चल रहा है1⁄2, करीब 10,000 संभावित बिस्तरों और 400 डायग्नाॅस्टिक केंद्रों का संचालन कर रही है। द्वारा किए गए तात्कालिक प्रयासों के बाद सर्जिकल टीम की ओर से किए गए विशेषज्ञ प्रयासों ने सफलता सुनिश्चित करने के लिए प्रयास किए।” श्री मोहित सिंह, फेसिलिटी निदेशक, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने कहा, “ऐसे मामले हमेशा ही मुश्किल होते हैं। हालांकि अगर तबीयत ठीक होने के 0.1 फीसदी संभावना होने पर भी हम वह सबकुछ करते हैं जो कर सकते हैं।

चुस्त डॉक्टरों की सूझ-बुझ ने बचाई 7 वर्षीय बच्ची के आंखों की रोशनी

 इस मामले में विभिन्न विशेषज्ञताओं वालों डॉक्टरों की कई टीमों ने अपनी ऊर्जा और प्रयासों को प्लाक्षी की मदद करने के लिए केंद्रित कर लिया। कुछ समय के लिए यह अनिश्चितता की स्थिति थी लेकिन वह इससे उबरने में सफल रहीं। अब वह अपने परिवार के साथ लगभग पूरी तरह ठीक हैं।”फोर्टिस हैल्थकेयर लिमिटेड के बारे में फोर्टिस हैल्थकेयर लिमिटेड भारत में अग्रणी एकीकृत स्वास्थ्य सेवा प्रदाता है। कंपनी की स्वास्थ्य सेवाओं में अस्पतालों के अलावा डायग्नाॅस्टिक एवं डे केयर स्पेष्यलिटी सेवाएं षामिल हैं। फिलहाल कंपनी भारत समेत दुबई, माॅरीषस और श्रीलंका में 45 हैल्थकेयर सुविधाओं समेत 1⁄4इनमें वे परियोजनाएं भी शामिल हैं जिन पर फिलहाल काम चल रहा है1⁄2, करीब 10,000 संभावित बिस्तरों और 400 डायग्नाॅस्टिक केंद्रों का संचालन कर रही है।



Tags:
leave a comment