ब्रेकिंग

दरोगा के 8 लाख की नीलाम जमीर ने पहुंचाया जेल

दरोगा के 8 लाख की नीलाम जमीर ने पहुंचाया जेल

By : Binod Jha
Jan 31, 2019
289

यूँ तो इलेट्रॉनिक मीडिया का हमारे देश में आम जनता पर क्या असर है इससे आप स्वयं भलीभांति परिचित हैं इसका खुलासा करने की आवश्यकता नहीं मगर वहीँ जब बात आती है इलेक्ट्रॉनिक मीडियाकर्मियों की तो ये अपने आपको बॉम्ब भी नहीं, तो किसी राफेल से कम भी नहीं आंकते। जिसका परिणाम होता है की उसी राफेल मिडिया के आर में करते हैं धनउगाही जैसे मोटी कमाई आये दिन इस प्रकार के तोहमत तो मीडियाकर्मियों पर लगते रहते हैं। मगर नॉएडा सेक्टर २० में जिस तरह की षड़यंत्र पुलिस और पत्रकार ने मिलकर रचा वो बेहद ही घिनौनी है एवं भर्त्सना के पात्र है। 

अमूमन जब कोई भी शख्स जब किसी आपराधिक घटनाओं को अंजाम देता है तो कोशिस करता है पुलिस से बच बचाकर ही घटनाओं को अंजाम दिया जाय। मगर जब पुलिस ही अपराधियों के साथ लिप्त हो तो अपराध करने का दायरा के साथ साथ मायने ही बदल जाते हैं। कुछ इसी तरह के खुलासे नॉएडा अपर पुलिस अधिक्षक वैभव कृष्ण द्वारा किया गया। जिससे की तमाम  उत्तर प्रदेश के पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया।

 जी हाँ आइये हम विस्तृत रूप से बताते हैं दरअसल मामला है पुलिस महकमें का। दिनांक 27 एक 2019 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (कप्तान) वैभव कृष्ण गौतम बुध नगर को शिकायतकर्ता पुष्पेंद्र चौहान निवासी डी- 84 आनंद विहार कॉलोनी, नासिर पुर,जिला गाजियाबाद ने शिकायती प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करते हुए बताया कि थाना सेक्टर 20 के प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार पंत एवं उनके कुछ सहयोगी उनसे थाना सेक्टर 20 पर पंजीकृत मुकदमा अपराध संख्या 1892 -1093/ 2018 धारा 406/ 419/ 420/ 467/ 468/ 471/ भादवि  व 66 आईटी0 एक्ट में कुछ अभियुक्तों के नाम निकालने एवं कॉल सेंटर खोले जाने के संबंध में  ₹800000 की रिश्वत की मांग कर रहे हैं। 
 

दरोगा के 8 लाख की नीलाम जमीर ने पहुंचाया जेल

उक्त शिकायत पर तत्काल संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक गौतम बुध नगर द्वारा पुलिस अधिक्षक नगर जनपद गौतम बुध नगर से जांच कराए जाने पर प्रथम दृष्टया आरोप सही पाए जाने पर वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक गौतम बुध नगर द्वारा दोषी पुलिसकर्मियों को "ऑपरेशन ट्रैप" तैयार कर उनके विरुद्ध कार्यवाही करने की योजना बनाई गई।  दिनांक 29/01/2019 के प्रातः से यह "ऑपरेशन ट्रैप" प्रारंभ किया गया एवं मध्य रात्रि में इसमें सफलता प्राप्त हुई। जब धनराशि ₹800000 प्रभारी निरीक्षक थाना सेक्टर 20 नोएडा के सरकारी दफ्तर से प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार पंत एवं तीन पत्रकारों के पास से बरामद हुई इस "ऑपरेशन ट्रैप" की कार्यवाही के दौरान पुलिस विभाग के अलावा दो अन्य विभागों के सरकारी कर्मचारी भी टीम के साथ लिए गए थे ताकि इस कार्यवाही की विश्वसनीयता और अधिक बनी रहे।
 

दरोगा के 8 लाख की नीलाम जमीर ने पहुंचाया जेल

वहीँ अन्य विभाग के सरकारी कर्मचारियों को जिलाधिकारी गौतम बुध नगर से अनुरोध कर नामित कराया गया।  अब आगे की रणनीति इस तरह है की ऑपरेशन के दरमियान ८ लाख के नोटों को पाउडरयुक्त किया गया और  उक्त शिकायतकर्ता को बुलाकर रुपये दे दिए गए और बताया गया की इसी रुपये को ले जाकर उन थानेदार व् जो भी सहयोगी हों उनके सुपुर्दगी कर देने का निर्देश देते हुए रवाना कर दिया गया। पुनः शिकायतकर्ता ने पुलिस के सहयोगियों को कॉल किया और बताया की रुपये का इंतजामात हमने कर ली है अब ये बतायें कहाँ मिला जाय तो सबने तय किया की यह शुभ कार्य थाने सेक्टर २० के थानेदार मनोज कुमार पंत के दफ्तर से सुरक्षित जगह से बेहतर और क्या होगा। 

दरोगा के 8 लाख की नीलाम जमीर ने पहुंचाया जेल

और बस नोटों की गिनतियाँ शुरू की गई बस शिकायतकर्ता ने मोबाईल के द्वारा आगे धर पकड़ टीम को दिए गए संकेत निर्देश को संकेत किया गया फिर क्या था देखते ही देखते पुरे थाना स्काउट टीम के छावनी में तब्दील हो गया और देर रात रंगे हाथों इन चारों को गिरफ्तार कर हवालात में डाला गया।

हालांकि सभी मीडियाकर्मियों को सुबह इस बात की जानकारी दी गई मगर सुबह से सैकड़ों के तादाद में पत्रकार जमकर बैठ गए की इस थानेदार साहब को मिलने तो दो ताकि उनके जुबानी को हम भी कैद करें जो की कल तक बड़ी ही लम्बी लम्बी ईमानदारी के ढिंढोरे पीटते थे वो आज अपने ही हवालात में कैद कैसे हैं। मगर अफ़सोस हवालात की तस्वीर नहीं हम आपलोगों को उपलब्ध करावा पाए जिस बात के लिए हम पत्रकारों व पुलिस के साथ नोंक झोंक में कहा सुनी भी हुई मगर कोई फायदा नहीं। 

दरोगा के 8 लाख की नीलाम जमीर ने पहुंचाया जेल

पकड़े गए चारों आरोपियों की पहचान कुछ इस तरह है नॉएडा सेक्टर 20 के थाना प्रभारी मनोज कुमार पंत के साथ पत्रकार उदित गोयल, रमन ठाकुर और सुशील पंडित गिरफ़्तार हुए हैं जो की इलेक्ट्रॉनिक मिडिया ABP न्यूज़, इंडिया टीवी, सहारा के पत्रकार बताये जा रहे हैं। ये चारों लोग एक कॉल सेंटर संचालक से वसूली (Extortion) कर रहे थे। एसएसपी ने एडिशनल प्रभारी थाना सेक्टर २० जयवीर सिंह को भी सस्पेंड किया है।  थाना सेक्टर 20 पर कोतवाल मनोज कुमार पंत व उनके सहयोगी पत्रकारों के विरुद्ध मुक़द्ध्मा अपराध संख्या 166/19 धारा 7/8/13 (13 डी) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम व 384 भादवि व 30 आर्म्स एक्ट के अंतर्गत पंजीकृत किया गया है।

गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरण निम्न प्रकार है :-
1. दरोगा मनोज कुमार पंत (प्रभारी थाना सेक्टर 20 नोएडा) 
2. सुशील पंडित पुत्र ब्रह्मेश्वर निवासी पी/सी 127 सेक्टर 37 थाना कासना ग्रेटर नोएडा। 
3. रमन ठाकुर पुत्र सुरेश निवासी- ई 413 बीटा 1 ग्रेटर नोएडा। 
4. उदित गोयल पुत्र स्वर्गीय योगेंद्र कुमार गोयल, निवासी मिक्शन ग्रीन मेंशन बी 102 सूरजपुर साइट सी ग्रेटर नोएडा। 
वारदाते मौके से कुल ₹8 लाख नगद, एक पिस्टल फैक्ट्री मेड मैगजीन युक्त, दो जिंदा कारतूस 32 बोर, 6 मोबाइल फोन भिन्न-भिन्न कंपनियों के,1 मर्सिडीज कार जिसका नंबर DL9CQ0157 चाबी के साथ बरामद की गई है। 



Tags:
leave a comment